News Vox India
स्वास्थ्य

बालो में कलर करना मतलब बालो को डेमेज करना। डाई भी नुकसान दायक हे।

बालों को सुंदर और स्वस्थ रखने के लिए आज के युवा कई तरह के उपाय भी करते हैं. अक्सर ऐसा देखा जाता है कि गलत जीवनशैली, जंक फूड खाने की आदत धूल, मिट्टी, धूप और लगातार बढ़ते प्रदूषण की वजह से काफी कम उम्र में ही युवाओं के बाल सफेद होने लगे हैं. ऐसे में युवा अपने आप को सुंदर दिखाने के लिए बालों पर डाई या कलर करवाते हैं. बालों को डाई या कलर करना सफेद बालों को छुपाने का सबसे आसान तरीका है.

यर डाई और हेयर कलर में अक्सर जो सबसे सामान्य साइड इफेक्ट देखा जाता है वह है एलर्जी. जो लोग हेयर कलर और डाई का ज्यादा उपयोग करते हैं उनमें एलर्जिक प्रॉब्लम ज्यादा देखने को मिलती है, यदि आप भी इसका उपयोग करने जा रहे हैं तो इसे सीधे बालों में ना लगाकर पहले इसका टेस्ट कर लें. टेस्ट करने के लिए पहले इसे अपनी स्किन पर लगा कर देखें, यदि आपको खुजली या दाने होते हैं तो कोशिश करें की इसका उपयोग बालों में न करें.

लगातार हेयर डाई के इस्तेमाल से इसमें पाए जाने वाले केमिकल्स हमारी बालों की ग्रोथ के लिए समस्या पैदा कर सकते हैं, जिस वजह से गंजापन होने की दिक्कत भी आ सकती है। हम जो भी कलर डाई उपयोग करते हैं, कुछ केमिकल्स ऐसे भी होते हैं जो शरीर में कैंसर के खतरे को बढ़ावा देते हैं। इससे त्वचा कैंसर का खतरा रहता है।

Related posts

बरेली की योग दुनिया :योगाचार्य मीना सोंधी की घर घर योग पहुंचाने की कोशिश।  

newsvoxindia

फेफड़े  शरीर का महत्वपूर्ण अंग है , फेफड़ों का रखें ध्यान – डॉक्टर प्रशांत

newsvoxindia

पैर टूटा है लेकिन हिम्मत नहीं, शिल्पा शेट्टी का योगाभ्यास अब भी जारी

newsvoxindia

Leave a Comment