News Vox India
धर्मनेशनलशहरस्पेशल स्टोरी

मंगल आपको दे रहा है परेशानी तो पढ़े यह ज्योतिष राय

ज्योतिषाचार्य विपिन चंद्र शर्मा

ज्योतिष अनुसार मंगल अग्नि तत्व ग्रह है जिसकी प्रकृति पित प्रधान है । मंगल मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी है | मकर राशि में मंगल उच्च का होकर शुभ फल देता है, कर्क राशि में मंगल नीच यानि कमज़ोर होने से शुभ फल देने में असमर्थ होता है । जबकि वृषभ, मिथुन, कन्या और तुला शत्रु राशियां हैं इस नाते इन राशियों में भी मंगल कमज़ोर होने की वजह से शुभ फल देने में असमर्थ होता है । वैदिक ज्योतिष अनुसार मंगल तृतीय भाव का कारक है जबकि जैमिनी ज्योतिष अनुसार मंगल का विचार भतरी कारक ग्रह के तौर पर किया जाता है | ज्योतिष शास्त्र अनुसार मंगल भाई, प्रापर्टी, पराक्रम, दुर्घटना, रोग, कर्ज़ और शत्रुता का कारक है ।

Advertisement

 

 

 

मजबूत और शुभ मंगल के लक्षण
कुण्डली में यदि मंगल मजबूत या शुभ फल दे रहा हो तो जातक साहसी, पराक्रमी, अपने विचारों को खुल कर सामने रखता है, घर पूरा बना हुआ, प्रापर्टी के अच्छे सुख, भाई, मित्र, रिश्तेदारों और आस पड़ोस से अच्छे संबंध रखता है, प्रतियोगिता में जीत प्राप्त करता है।

 

ज्योतिषाचार्य विपिन चंद्र शर्मा

 

कमजोर और अशुभ मंगल के लक्षण
कुण्डली में यदि मंगल कमज़ोर या अशुभ फल दे रहा हो तो जातक को शत्रु परेशान करते हैं, कीमती सामान की चोरी, कार्य में बाधा, अचानक आय का साधन बंद होना, क़र्ज़ बढ़ना, घर बनने में बाधा, अचल संपत्ति की कमी, पराक्रम की कमी, प्रतियोगिता में हार, किसी भी तरह के रोग और दुर्घटना, बार बार मशीनरी खराब होना, स्वभाव में क्रोध और ज़िद जैसे लक्षण सामने आते हैं।

स्वास्थ्य : यदि जन्म कुंडली में मंगल अशुभ फल दे रहा हो तो किसी भी तरह के घाव, चोट, दुर्घटना, क्रोधी और ज़िद्दी स्वभाव, उच्च रक्तचाप, पित यानी गर्मी के रोग और महिलाओं में गर्भ ना ठहरने जैसी बाधा आती है ।

 

 

करियर : यदि जन्म कुंडली में मंगल शुभ होकर कर्म या लाभ भाव से योग करे तो पुलिस, सेना, कानूनी कार्य, जीव विज्ञान, तकनीकी कार्य, खेलों से संबंधित, दांतों के डॉक्टर, सर्जन, नगर निगम में, वकालत, वन विभाग, इंजीनियरिंग, घर बनाने में काम आने वाली चीजों के कारोबार, हलवाई, फ़ास्ट फूड, नॉन वेज भोजन, बेकरी दुकान, होटल व्यवसाय, केटरिंग और बर्तन संबंधित, बिजली संबंधी, कंप्यूटर संबंधी, रक्षा विभाग, जिम और योगा संबंधित, किसी भी तरह की मशीनरी, खेती और अनाज से जुड़े कारोबार लाभ देते हैं ।

 

 

शुभ फल : यदि जन्म कुंडली में मंगल 3, 6, 10 या 11वे भाव में हो , अन्य भाव में यदि मंगल मेष, वृश्चिक या मकर राशि का हो तो भी शुभ फल होते हैं ।

 

 

विशेष : यदि जन्म कुंडली में मंगल शुभ हो तो जातक के पास खुद का घर होता है, घर पूरा बना हुआ होता है। जातक के लिए 25, 37 और 49वे वर्ष में अचल संपत्ति में वृद्धि का योग बनता है ।

ज्योतिषाचार्य
विपिन चंद्र शर्मा

Related posts

लोकप्रिय पंजाबी गायक सिद्धू मुसेवाला को यू ट्यूब ने दिया डायमंड बटन, मौत के चार महीने बाद मिला बड़ा सम्मान ,

newsvoxindia

भारत रत्न कपूरी ठाकुर पद यात्रा का फतेहगंज पश्चिमी में हुआ शानदार  स्वागत

newsvoxindia

आज सूर्य की उपासना से होगा कारोबार में इजाफा ,जानिए क्या कहते हैं सितारे,

newsvoxindia

Leave a Comment