News Vox India
नेशनलराजनीति

मुख्तार अब्बास नकवी ने “वन नेशन वन इलेक्शन” की वकालत , बोले पीएम पद के लिए नहीं है कोई वैकेंसी, 

मुजस्सिम खान ,

रामपुर : वरिष्ठ भाजपा नेता वा पूर्व कैबिनेट मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने  आज “वन नेशन वन इलेक्शन” की जमकर वकालत की।  मुख्तार अब्बास नकवी रामपुर में पत्रकारों से रू ब रू थे।तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर के बिहार दौरा में गलवान शहीदों को आर्थिक सहायता दिए जाने पर नकवी ने भाजपा से राष्ट्रवाद का मुद्दा छीनने की कोशिश बताया। पूर्व कैबिनेट मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने एक देश और एक चुनाव पर कहा आज जो सबसे इंपोर्टेंट मुद्दा है वह चुनाव है अभी चुनाव में 2024 की बात नहीं कर रहा हूं या जो अभी गुजरात में या हिमाचल में या अन्य जगह पर हो रहा है वह  उसकी बात नहीं कर है।

Advertisement

 

वह मानते है  कि एक देश एक चुनाव वन नेशन वन इलेक्शन आज वक्त की जरूरत है सभी राजनीतिक दलों को अपने राजनीतिक स्वार्थ और पूर्वाग्रह से ऊपर उठकर के एक देश एक चुनाव की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इस दिशा में देश का भी आह्वान किया है क्योंकि हर 6 महीने में किसी न किसी जगह चुनाव होते रहते हैं अभी जो कुछ राज्यों के चुनाव खत्म हुए अभी फिर कुछ राज्यों के चुनाव शुरू हो गए वह खत्म होंगे फिर चार-पांच राज्यों में शुरू हो जाएंगे फिर खत्म होंगे तो फिर लोकसभा के चुनाव शुरू हो जाएंगे, लोकसभा खत्म होगा तो फिर विधानसभा शुरू हो जाएगा उसके अलावा जो पंचायत के चुनाव है स्थानीय निकाय के चुनाव हैं जो कॉपरेटिव चुनाव है यह चुनाव चलते रहेंगे लेकिन जो यह लोकसभा और विधानसभा के चुनाव है लगातार चलते हैं उससे तीन नुकसान महत्वपूर्ण है पहला तो ये नुकसान है जन धन की बेतहाशा बर्बादी, दूसरा यह जो चुनाव की प्रक्रिया होती है।  जिसके  चलते विकास में स्पीड ब्रेकर लगता है और तीसरा सबसे महत्वपूर्ण है कि लोकतंत्र के इस महापर्व के प्रति जो लोगों का उत्साह होता है वो फीका भी पड़ता है और धीमा भी पड़ता है तो इसलिए वन नेशन वन इलेक्शन एक देश एक चुनाव की दिशा में हम सब को आगे बढ़ना चाहिए और उसके लिए सभी राजनीतक पार्टी या भारतीय जनता पार्टी के चुनाव सुधार के संबंध में कमेटी बनी थी।

 

उसके वह  अध्यक्ष थे तब उन्होंने ने उस वक्त भी इस बारे में रिकमेंडेशन की थी। उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बार बार राजनीतिक पार्टियों से अनुरोध किया हैं कि वो सहमति बनाएं और इस दिशा में आगे बढ़े क्योंकि जो हमारे देश का सबसे बड़ा पर्व होता है वह चुनाव होता है उस लोकतंत्र के पर्व के प्रति अविश्वास या उस लोकतंत्र के पर्व के प्रति किसी तरह की कमी या उस में उत्साह में कमी हो यह लोकतंत्र के हित में भी नहीं है और देश के हित में भी नहीं है और इसलिए मैं आज इस मध्यम से एक देश और एक चुनाव के लिए जो हैं फिर से एक बार फिर सब से अपील है इस देश में कई सुधार हुए हैं आर्थिक सुधार हुए सामाजिक क्षेत्र में सुधार हुए, शिक्षा के क्षेत्र में सुधार हुए, प्रशासनिक सुधार हुए हैं, हर सुधार जो हमारे देश के आने वाले दिलों में लोकतंत्र को और आने वाली पीढ़ीयो के सुधार के लिए बहुत ही प्रभावी और सकारात्मक संदेश लेकर आया है लेकिन यह सुधार जो है चुनाव सुधार यह मील का पत्थर साबित होगा वन नेशन वन इलेक्शन और दिशा में हमारी सब राजनीतिक पार्टियों से अनुरोध है वह इसी दिशा आगे बड़े।

 

 

पूर्व मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से मीडिया दौरा पूछा गया सवाल, नकवी जी इस समय दिल्ली में आप के और बीजेपी के बीच दोनों पार्टियों के बीच जंग चल रही है उन्होंने कहा कि आप पार्टी जनता के लिए चूचू का मुरब्बा बन गई है और ऐसा चूचू का मुरब्बा है जो न  उगलते बन रहा हैं और न निकलते बन रहा है अब यह सपनों के सौदागरी करते-करते आज जो है दिल्ली हो, चाहे पंजाब हो, उन्होंने जो भी लोगों को सपने दिखाए थे वह सारे के सारे बेनकाब हो रहे हैं एक्सपोज हो रहे हैं लेकिन अफसोस की बात है कि वो जनादेश का सम्मान करने के बजाए, जनादेश का अपमान करने में विश्वास करते हैं इनको जो है गवर्नेंस या शासन या सुशासन करना चाहिए उसकी जगह पर जो है हर दिन कभी धरना देने लगेंगे कभी प्रदर्शन करने लगेंगे और बहुत ज्यादा से ज्यादा जब यह फसेंगे तो इस्तीफा देकर रफूचक्कर हो जाते हैं तो अपनी नाकामियों पर अपने पाप पर पैबंद लगा कर के कोई भी पार्टी जो है प्रक्रम नहीं कर सकती। आप पार्टी अपने पाप पर पैबंद लगाकर प्रक्रम करने की कोशिश कर रही है।

 

 

उन्होंने ओमप्रकाश राजभर पर पूछे गए सवाल के जबाव में कहा , न आजकल बहुत से पार्टियों में पलायन प्रोग्राम चल रहा है और खास तौर से वह पार्टी जो परिवार के पालने में सिमटी सुकड़ी पार्टियां हैं उनमें पलायन प्रोग्राम बहुत तेजी के साथ चल रहा है इसलिए चलने दीजिए। वही केसीआर के बिहार दौरे को लेकर कहा कि  नरेंद्र मोदी जी का परिश्रम और उसका परिणाम और तपस्या की ताकत को परास्त करने के लिए बहुत ताकत चाहिए बहुत सोच चाहिए बहुत समझ चाहिए इसके साथ ही साथ आज की तारीख में वैकेंसी है नहीं आवेदन लेकर सब खड़े हुए हैं आज तीन दर्जन से ज्यादा प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार हैं इस देश में, हर पार्टी में एक एक दो दो दिखाई पढ़ रहे हैं और हर आदमी लाइन में खड़ा हुआ है की वैकेंसी कब होगी और हमको जो है वो प्रधानमंत्री वेटिंग का तमगा कब मिलेगा तो यह प्रधानमंत्री बनने के लिए जुगाड़ और जोड़-तोड़ नहीं चल रहा है बल्कि प्रधानमंत्री वेटिंग के लिए जुगाड़ और जोड़-तोड़ है जो चल रहा है।

 

 

 

केसीआर पर निशाना साधते हुए कहा कि  नकल के लिए भी अकल चाहिए अब यह लोग जो है राष्ट्रवाद का मुद्दा कभी छीनने की कोशिश करेंगे कभी जो है हिंदुत्व के बड़े भारी मर्सिया बन जाते हैं इनकी अपनी जो खुद नीतियां और कार्यक्रम है वो तो टाय टाय फिश हो गई है अब उसके बाद जो है उधार की नीतियां और कार्यक्रम का पिटारा लेकर घूम रहे हैं तो पहले तो अपने गुनाहों की गठरी देखें उसके बाद इस तरह के पिटारे को लेकर घूमे। नकवी ने अखिलेश यादव के डिप्टी सीएम केशव पर दिए गए बयान पर अखिलेश जी को कुछ ना कुछ तो बोलना है और बोलना भी चाहिए क्योंकि अभी तो नेता विरोधी दल है वो लेकिन उनको एक बात समझना चाहिए कि जो कुछ भी जनादेश उनको मिला है विपक्ष में भी बैठने का तो उसको जो हैं सीरियस तरीके से संजीदगी के साथ उसको निभाए ना कि उनको भी नॉन सीरियस तरीके से उस पर भी काम करें। आज जो है अगर अपनी छवि को और अपनी इमेज को वह राहुल गांधी जी की तरह नॉन सीरियस बनाना चाहते हैं तो उनको मुबारक हो।

 

 

मीडिया द्वारा आजम पर पूछे गए सवाल के जबाव में कहा कि  आजम खान पर गवाहों को धमकाने पर दो मुकदमे दर्ज हुए हैं पहले भी उन पर काफी मुकदमे दर्ज हो चुके हैं सरकार को बता रहे हैं की सरकार के दबाव में यह काम किया जा रहा है यूनिवर्सिटी जिसको लेकर सारा विवाद है इस पर नकवी जी ने कहा इसमें ना तो किसी को डरने की जरूरत है और ना किसी को डराने की जरूरत है कानून अपना काम कर रहा है।

Related posts

शिक्षा सेवा चयन आयोग के सदस्य डॉ राधाकृष्णन दीक्षित का बरेली में जोरदार स्वागत 

newsvoxindia

जितिन प्रसाद के सगे चचेरे भाई भाजपा छोड़ सपा में शामिल ,

cradmin

Voting Live: मेयर प्रत्याशियों ने मतदान करके जनता में वोटिंग के लिए भरा जोश,

newsvoxindia

Leave a Comment