News Vox India
धर्मनेशनलशहर

हरिद्वार लाइव : नवरात्रों में करे सिद्धपीठ माया देवी मंदिर के दर्शन ,भगवान शिव इसी स्थान पर लाये थे माता सती का पार्थिव शरीर ,

स्वरूप पूरी ,ब्यूरो चीफ उत्तराखंड
Advertisement

हरिद्वार :  देशभर में कल से शारदीय नवरात्र पर्व की शुरुआत हो चुकी है । आज नवरात्र का तीसरा दिन है। धर्मनगरी हरिद्वार स्थित सिद्धपीठ माया देवी मंदिर में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा हुआ है। मान्यता है कि 52 शक्तिपीठों में से पहले शक्तिपीठ माया देवी मंदिर में पूजा अर्चना करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।हरिद्वार के श्री पंच दशनाम जूना अखाड़े के प्रांगण में माया देवी मंदिर स्थित है। मंदिर स्थापना के पीछे एक पौराणिक गाथा है। अखाड़े के अंतर्राष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेम गिरी बताते है कि प्राचीन समय में जब राजा दक्ष के द्वारा कराए यज्ञ के दौरान माता सती ने अपने प्राण त्याग दिए थे, तब भगवान शिव ने उनके पार्थिव शरीर को यही लाकर रखा था।

 

वीडियो में देखिये यह खबर :

https://youtu.be/RkJMRJ1sjcQ

भगवान विष्णु द्वारा जब माता सती के 52 टुकड़े किए गए तब 52 शक्तिपीठों की स्थापना हुई थी। सबसे पहले माता की नाभी इसी स्थान पर गिरी और यहां देश का पहला शक्तिपीठ स्थापित हुआ है।प्राचीन काल से नागा सन्यासी माया देवी मंदिर में पूजा अर्चना करते चले आ रहे हैं। मान्यता है कि माया देवी मंदिर में मांगी गई सभी मुराद पूरी होती है। यही कारण है कि साल भर यहां दूर दूर से आने वाले भक्तों का तांता लगा रहता है। नवरात्र पर्व के दौरान तो मंदिर की छठा अलग ही देखने को मिल रही है।धर्म नगरी हरिद्वार में मनसा देवी और चंडी मंदिर के बीच सिद्धपीठ माया देवी मंदिर स्थित है। वैसे तो सालभर बड़ी संख्या में श्रद्धालु इस मंदिर में माया के दर्शन के लिए आते है लेकिन नवरात्र पर्व के दौरान यहां की गई पूजा अर्चना विशेष फलदायी होती है।

Related posts

युवती  के धर्म परिवर्तन कराने के मामले में महिला प्रधान सहित तीन पर मुकदमा दर्ज 

newsvoxindia

सड़क पर पत्थर डालने के बाद ठेकेदार रोड़ डालना भूला 

newsvoxindia

मीरगंज पुलिस ने पांच फरार वारंटियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा 

newsvoxindia

Leave a Comment