News Vox India
कैरियरनेशनलयूपी टॉप न्यूज़राजनीतिशहरस्पेशल स्टोरी

निर्वाचन आयोग नीरज मौर्य को चुनाव लड़ने से रोके : बसपा प्रत्याशी आबिद अली 

आबिद ने नीरज मौर्य पर लगाए एक से बढ़कर गंभीर आरोप ,
वीरपाल यादव पर भी आबिद ने साधा निशाना ,
बरेली। आंवला सीट से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे आबिद अली ने सपा-कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी नीरज मौर्य को निर्वाचन आयोग से चुनाव लड़ने से रोकने की मांग की है। आबिद अली ने शहर के एक होटल में आयोजित पीसी में नीरज मौर्य पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग से मांग की  तरह से नीरज मौर्य ने और उनके सहयोगियों ने साजिश रचकर फर्जी सिंबल तैयार किया ,फर्जी दस्ताबेज तैयार किये और अपना पर्चा दाखिल करके उनका पर्चा ख़ारिज  कर दिया। इस बात पर नीरज मौर्य और सत्यवीर पर मुकदमा दर्ज हुआ है। उनके तीसरे पार्टनर की गाड़ी भी सीज हुई है। उनकी निर्वाचन आयोग से मांग की है कि ऐसे व्यक्ति जो लोकतंत्र से खिलबाड़ कर रहा है।
चुनाव से संबंधित दस्तावेजों में दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर रहा है। जिस पर फर्जीबाड़े का मुकदमा दर्ज हुआ है। ऐसे व्यक्ति को चुनाव लड़ने से रोका जाये। नीरज मौर्य ने चार सौ बीसी उनके साथ नहीं बल्कि एक राष्ट्रीय पार्टी से और निर्वाचन आयोग से की है। वहीं आबिद अली नें सपा प्रत्याशी नीरज मौर्य को लेकर कहा कि नीरज मौर्य ने जिस तरह अपने सहयोगी सत्यवीर सिंह के साथ मिलकर फर्जी सिंबल और फर्जी दस्तावेज तैयार कर उनका नामांकन निरस्त कराने को लेकर षड्यंत्र रचा।
इससे साफ जाहिर होता है कि नीरज मौर्य मुस्लिम वोटो पर डांका डालना चाह रहे थे। उन्होंने कहा कि सपा के ख़ुद के वोट तो भाजपा में जा रहे हैं उसके पास ख़ुद का तो वोट बैंक हैं नहीं इसलिये सपाई इस तरह की हरकते करके वोटो में सेंधमारी करने में लगें हैं।उन्होंने भाजपा और सपा उम्मीदवार से अपनी जान का खतरा बताया है। उन्होंने चुनाव आयोग और जिला प्रशासन से सुरक्षा देने की मांग की है। इस बीच उन्होंने सपा के पूर्व सासंद का जवाब देते हुए कहा कि वों पार्टी में काफ़ी बुजुर्ग नेताओं में गिने जाते लेकिन उनको बोलने का फिर भी सलीका नहीं हैं।
वो शायद भूले हुए हैं जिले में जो भी चुनाव हुए हैं उसमे उन्होंने ख़ुद भाजपा का साथ दिया है। वो हमसे कह रहे हैं कि हम सभासद का चुनाव नहीं जीत सकते। आबिद अली ने कहा कि अगर मैं भाजपा को जिताने के लिए चुनाव लड़ रहा होता तो किस में हिम्मत थी मेरा पर्चा खारिज करता। दलित और मुस्लिम वोट का गठबंधन देखकर नीरज मौर्य इस समय घबराए हुए हैं। प्रेसवार्ता में मंडल प्रभारी राजवीर सिंह , जिलाध्यक्ष ओमवीर कातिब , तौफीक सहित तमाम बसपा के नेता मौजूद रहे।

Related posts

जानिए अखिलेश यादव ने मैनपुरी सीट से डिंपल यादव को उतारने का क्यों लिया था फैसला !

newsvoxindia

स्मैक तस्कर कल्लू शाह  270 ग्राम कीमती स्मैक के साथ गिरफ्तार ,

newsvoxindia

देहरादून से आये साधु संतों ने फिल्म कश्मीर फाइल्स को देखा कहा फिल्म है हकीकत के पास ,

newsvoxindia

Leave a Comment