News Vox India
धर्मनेशनलयूपी टॉप न्यूज़शहर

दरगाह पर गुस्ल शरीफ की रस्म की गई अदा ,कल से उर्स का आगाज , बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने की उम्मीद ,

 

अजमेर शरीफ से आया संदल व चादर की गई पेश।
बरेली।  दरगाह आला हज़रत पर दरगाह प्रमुख हज़रत मौलाना मोहम्मद सुब्हान रज़ा खाँ (सुब्हानी मियाँ) की सरपरस्ती व सज्जादानशीन  मुफ़्ती अहसन रज़ा क़ादरी (अहसन मियां) की मौजूदगी में आज दरगाह शरीफ पर ख़ानकाही और सूफियाना रस्मो रिवाज के साथ रूहानी अंदाज़ में गुस्ल शरीफ़ हुआ और अजमेर शरीफ से आया संदल शरीफ़ पेश किया गया। अजमेर शरीफ के गद्दीनशीन सय्यद सुल्तान चिश्ती व सय्यद हम्मादुल चिश्ती द्वारा लाया संदल व चादर पेश की गई।
 ख़ानकाही निज़ाम में गुस्ले काबा की रस्म के आधार पर उर्स पर साल में एक बार गुलाब जल से गुस्ल दिया जाता है तथा संदल भी पेश किया जाता है। संदल की और गुस्ल की यह रस्म पीर वलियों और बुज़ुर्गों से कई सदियों से चली आ रही है। दरगाह आला हज़रत की यह विशेषता है कि यहाँ होने वाली यह रस्म किसी सय्यदज़ादे के हाथों अदा करायी जाती है। इस साल यह रस्म दरगाह ख्वाजा ग़रीव नवाज़ के गद्दी नशीन  हज़रत सय्यद सुल्तान मियॉ व हज़रत सय्यद आसिफ़ मियाँ और दीगर सादाते किराम के हाथों अदा करायी गयी। सन्दल की महक से दरगाह महक उठी। इस मौक़े पर पहले फ़ातिहा ख़्वानी हुई फिर पुरानी चादर को उतारा गया। गुलाब जल का छिड़काव कर संदल मला गया  बाद में हज़रत सुब्हानी मियाँ व हज़रत अहसन मियाँ  ने नई चादरें पेश की।मीडिया प्रभारी नासिर कुरैशी ने बताया कि इस रूहानी महफ़िल में मुफ़्ती मो0 सलीम नूरी, मुफ़्ती आक़िल,मुफ़्ती अफरोज़ आलम,मुफ़्ती सय्यद कफील अहमद, सय्यद शाकिर अली, मुफ़्ती जमील खाँ, मुफ़्ती मोईन खाँ, मौलाना अख़्तर,मोहतिशिम रज़ा खान आदि लोग शामिल रहे।

Related posts

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना में  प्रवेश प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित

newsvoxindia

चतुर्थी को चांद देखने से लगता है कलंक !

newsvoxindia

Bareilly Update: मोहर्रम जुलूस में हुए बवाल  बाद गांव में शांति , पुलिस की मौजूदी में निकाला गया ताजिया ,

newsvoxindia

Leave a Comment