News Vox India

बाढ़ ने ग्रामीणों की बढ़ाई परेशानियां, घर पहुंचने तक ग्रामीणों को करने पड़ रही मसकद

फतेहगंज पश्चिमी। बाढ़ की तबाही से जहां गाँब भोलापुर में पहले धान और मिर्च की फसल बर्बाद हो गयी।वही गाँब में घुसने वाले मुख्य मार्ग सैलाब की तेज धार में वह गए। जिससे गाँब का सम्पर्क टूटने से ग्रामीणों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

गाँब में किसी जिम्मेदार अधिकारी के नही पहुंचने से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। प्रधान पति महावीर सिंह की अगुवाई में ग्रामीणों ने रास्ता दुरस्त कराने की मांग की है।

प्रधान पति महावीर सिंह, पूर्व प्रधान रघुवीर सिंह,रामाशंकर शर्मा,पप्पू शर्मा,पुरषोत्तम गंगवार,हेतराम राजपूत आदि समेत ग्रामीणों ने बताया कि उफनाई रामगंगा के कहर से पहले तो धान,मिर्च,गन्ना आदि की फसल पूरी तरह बर्वाद हो गयी।वही बाढ़ की तेज धार से गाँब के सम्पर्क मार्ग,पुलिया वहने से ग्रामीणों का संपर्क कस्बा से टूट गया है।जिससे लोगो को गाँब से वहार निकलने में भारी दिक्कत ही नही हो रही बल्कि रोज़मर्रा की वस्तुओं को संघर्ष करना पड़ रहा है। गाँब के अधिकतर लोग  दूध का व्यापार करते है।इसलिये गाँब में जानवरों की संख्या अधिक है। गाँब के पास की पुलिया और सम्पर्क रोड टूटने से जानवरो को चारागाह में ले जाने की दिक्कत हो रही है। जानवरो का चारा पहले ही बाढ़ में समा चुका है। गांब में बाढ़ के दौरान और बाद में कोई हुई तबाही को देखने कोई भी जिम्मेदार अधिकारी नही पहुंचे है। जिससे ग्रामीणों में सरकारी व्यवस्था के खिलाफ गहरा रोष व्याप्त है। ग्रामीणों ने प्रशासनिक अमले से मदद और रास्ते दुरस्त कराने की गुहार लगाई है।

Leave a Comment