News Vox India
खेती किसानीयूपी टॉप न्यूज़शहरस्पेशल स्टोरी

इंसानी प्यार में नंदी हुए भोले , अब नंदी को इस शख्स का रहता है इंतजार,

बरेली। किसी को बात समझ नहीं आये तो कहा जाता है कि प्यार से समझाओ  , वास्तव में प्यार शब्द कितना गंभीर और व्यापक हो सकता है इसका नजारा बरेली के कर्मचारी नगर कॉलोनी  में देखने को मिलता है।  । दरअसल यहां करीब एक साल पहले नंदी एक साल पहले बीमारी की हालत में कर्मचारी नगर कॉलोनी में देखा गया  था । उस समय यह नंदी पैर की चोट के चलते चल तो रहा था लेकिन उतना एक्टिव नहीं था जितना आमतौर पर होते है। आसपास के लोगों ने देखा तो किसी की हिम्मत नहीं हुई कि नन्दी को पास जाकर कुछ  खाने को  दिया जाए या फिर उसे दवाई दी जाए।
कर्मचारी नगर  के रहने वाले दवा व्यापारी हितेंद्र सिंह चौधरी को पता चली , वह नंदी को देखने उस जगह पहुंच गए। जब उन्होंने देखा कि नन्दी ठीक से खा नहीं रहा है और उसे  चलने में भी दिक्कत है। पास पर जाने पर सिर हिलाकर मारने की कोशिश भी  नहीं कर रहा है। इसके बाद एक दो दिन हितेंद्र ने दूर से नंदी को ब्रेड खाने को दिया , ब्रेड खिलाने का सिलसिला ऐसे ही कुछ दिन चला । हिम्मत करके हितेंद्र उसके पास गए और अपना हाथ उसकी पीठ पर हाथ रखा ,  इस दौरान नंदी शांत और अपनी आंखों से हितेंद्र को लगातार देखता रहा । इसके बाद हितेंद्र को भी विश्वास हो गया कि नंदी उन्हें  मारेगा नहीं ।
उसके बाद हितेंद्र ने नंदी की बीमारी को जानने की कोशिश की तो पता चला कि उसके अंदर म कैल्शियम की दिक्कत के साथ पैर में उसका  खुर नहीं है जिसके कारण वह चल नहीं पा रहा है।हितेंद्र ने नंदी की बीमारी सही करने के लिए उसकी खुराक बढ़ाई । हितेंद्र  पिछले एक साल से नंदी को 2 से 5 किलो गाजर प्रतिदिन , मटर , पालक के साथ लगातार 2 से 3 ब्रेड देने का काम कर रहे है। यही कारण है उग्र स्वभाव का यह जानवर उनका दोस्त बन गया है । वह हर रोज उनके आने का इंतजार करता है।वह हर दिन नन्दी को दुलार करने के साथ उसे दवा  भी खिलाते है। आज इस नंदी का ऐसा स्वभाव हो गया है कि कॉलोनी के बच्चे आवाज देकर नन्दी को खाना खिलाने के लिये रोक लेते है । अब यह बीमार नंदी स्वास्थ्य हो चुका है पर जानवर और इंसानी दोस्ती भी इसी किस्से के साथ आगे बढ़ रही है। वही कॉलोनीवासी भी इस बात पर यकीन करने लगे है कि यह जानवर भी प्यार की भाषा समझता है इससे किसी को कोई नुकसान नहीं होगा। वह  के साथ अन्य जानवर भी हितेंद्र चौधरी के आने का इंतजार करते है।

Related posts

अपने ही बने जान के दुश्मन : नवविवाहिता के पिता के साथ बहनोई गिरफ्तार, यह था मामला,

newsvoxindia

लखीमपुर में दो सगी नाबालिग बहनों के शव पेड़ से लटके मिले , पुलिस ने गंभीर धाराओं में दर्ज किया मुकदमा 

newsvoxindia

पुरानी पेंशन को लेकर सिंचाई  संघ उत्तर प्रदेश के कर्मचारियों ने किया धरना प्रदर्शन,

newsvoxindia

Leave a Comment