News Vox India
स्वास्थ्य

कोरोना आपकी आँखों के रास्ते दिमाग में कर रहा प्रवेश , गुजरात के शहरों में दिखा ब्लैक फंगस का असर 

कोरोना आपकी आँखों के रास्ते दिमाग में कर रहा प्रवेश , गुजरात के शहरों में दिखा ब्लैक फंगस का असर 

वड़ोदरा | कोरोना की दूसरी लहर कोरोना के संक्रमण से ठीक हुए मरीजों के लिए मुसीबत साबित हो रही है | दरसल गुजरात के साथ देश के दो शहरों में कोरोना का नया रूप देखने को मिला है जहां कोरोना का असर आँखों और कानो पर दिखाई दे रहा है | हालाँकि गुजरात में कोरोना  का असर सबसे ज्यादा दिखाई दे रहा है | एक चैनल की रिपोर्ट के अनुसार सूरत में म्यूकरमाइकोसिस या ब्लैक फंगस के कई मामले आ चुके है | जहां डॉक्टरों को मरीज की जिंदगी बचाने के लिए आँखे निकालनी पड़ी है | चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक अब तक ब्लैक फंगस की वजह से आधे दर्जन से ज्यादा लोगो की जिंदगी बचाने के आँखे निकालने पड़ी है | डॉक्टरों ने अनुसार कोरोना से ठीक हो रहे है मरीज एक नए इंफेक्शन का शिकार हो रहे है | यह इंफेक्शन नाक -आँख से होते ब्रेन तक पहुंचता है | इस इंफेक्शन में मरीज की जिंदगी बचाने के लिए आँख को निकालना पड़ता है |

सूरत के निजी अस्पताल के  कान एवं गला विशेषज्ञ डॉक्टर भाविन पटेल ने बताते  है कि कोरोना की दूसरी लहर में म्यूकोरमाइकोसिस  केस सामने आ रहे है | म्यूकोरमाइकोसिस  के मामलों में मरीज को आँखों में दर्द , सिर दर्द होता है | जब मरीज इन बातों को इग्नोर करता है तो आगे चलकर उसे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है |

सूरत शहर के ईएनटी एक्सपर्ट डॉक्टर संकेत शाह के मुताबिक    कोरोना ठीक होने के बाद ये फंगल इंफेक्शन पहले साइनस  में होता है |  इसके बाद  2 से 4 दिन होते ही यह आंख तक पहुंच जाता है. इसके 24 घंटे के भीतर यह ब्रेन तक पहुंच जाता है | ऐसे में तत्काल आंख निकालने  पड़ती है|ताकि इंफेक्शन को बढ़ने से रोका जा सके | 

कोरोना आपकी आँखों के रास्ते दिमाग में कर रहा प्रवेश , गुजरात के शहरों में दिखा ब्लैक फंगस का असर 

कोरोना की पहली लहर में ब्लैक फंगस ने दी थी दस्तक कोरोना की भारत में दस्तक होते ही   गुजरात में म्यूकोरमाइकोसिस या ब्लैक फंगस  इंफेक्शन देखने को मिला था |वही  सबसे ज्यादा मामले अहमदाबाद में देखे गए थे | बाद में ब्लैक फंगस के  केस वडोदरा में भी सामने आए थे | गुजरात में अब तक 50 से अधिक मामले म्यूकोरमाइकोसिस के आ चुके है | डॉक्टरों का इस मामले में कहना है कि ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा शिकार डायबिटीज, ब्लड कैंसर , प्रतिरोधक क्षमता कम होने वाले लोग शिकार हो रहे है | 

Share this story

Related posts

दिवाली विशेष : पटाखा जलाते समय रखें इन बातों का ध्यान, आपकी सावधानी बेहद जरूरी ,

newsvoxindia

आयुर्वेद दिवस पर आयुर्वेदिक चिकित्सकों एवं स्टाफ ने निकाली गई बाइक रैली ,

newsvoxindia

मीरगंज चिकित्सा अधीक्षक मीरगंज सहित स्टाफ को अपर निदेशक द्वारा किया गया सम्मानित

newsvoxindia

Leave a Comment