News Vox India
शहर

जन्माष्टमी स्पेशल : जन्माष्टमी पर पूरे दिन और रात रोहणी नक्षत्र का रहेगा विशेष संयोग

जन्माष्टमी स्पेशल : जन्माष्टमी पर पूरे दिन और रात रोहणी नक्षत्र का रहेगा विशेष संयोग

29 अगस्त की रात से शुरू होगी अष्टमी लेकिन 30 अगस्त की रात मनेगा पर्व

ज्योतिषाचार्य पंडित मुकेश मिश्र

बरेली। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर पूरे दिन और रात रोहणी नक्षत्र रहेगा। खास बात यह है कि इस बार वे सभी दुर्लभ संयोग रहेंगे जो कान्हा के जन्म के समय रहे थे। सर्वार्थ सिद्धि योग में योशोदा के लाल का जन्म होगा। इसीलिए अष्टमी 29 अगस्त की रात शुरू हो जाएगी लेकिन नक्षत्र के कारण 30 अगस्त की रात पर्व मनाया जाएगा।भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि को जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है। श्रीमद्भागवत पुराण के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्र कृष्ण पक्ष, रोहिणी नक्षत्र, अर्धरात्रि कालीन अष्टमी तिथि, वृष राशि में बुधवार के दिन हुआ था। जन्माष्टमी पर छह तत्वों का एक साथ मिलना बहुत ही दुर्लभ होता है। इस जन्माष्टमी पर भी भाद्र कृष्ण पक्ष, अर्धकालीन अष्टमी तिथि, रोहणी नक्षत्र, वृष राशि में चंद्रमा और इसके साथ सोमवार को होना मंगलकारी है। व्रत के लिए उदया तिथि मान्य है, इसीलिए इस वर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पावन पर्व 30 अगस्त को ही मनाया जाएगा।

अष्टमी तिथि: 29 अगस्त रात 11:25 से 30 अगस्त रात 01:59 बजे तकशुभ मुहूर्त: 30 अगस्त रात 11:59 से 12:44 बजे तकरोहणी नक्षत्र: 30 अगस्त सुबह 06:39 से 31 अगस्त सुबह 09:44 बजे तक

30 अगस्त को शुभ मुहूर्तअष्टमी तिथि का प्रारंभ 29 अगस्त रविवार, रात 11:25 बजे से हो रहा है। इसका समापन 30 अगस्त सोमवार रात 1:59 बजे होगा। जन्माष्टमी पर पूजन का शुभ मुहूर्त 30 अगस्त, रात 11:59 बजे से देर रात 12:44 बजे तक का रहेगा। जबकि रोहिणी नक्षत्र का आरंभ 30 अगस्त, सुबह 06:39 बजे से हो रहा है और इसका समापन 31 अगस्त को सुबह 09:44 बजे होगा।

व्रत करना रहेगा उत्तमछह तत्वों के संयोग वाले व्रत को हाथ से नहीं जाने देना चाहिए। ऐसे संयोग में व्रत करने से तीन जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है। प्रेत योनि में भटक रहे पूर्वजों को भी मनुष्य मुक्ति दिला सकता है। जो लोग जन्माष्टमी का व्रत आरंभ करना चाहते हैं उनके लिए इस वर्ष व्रत आरंभ करना उत्तम रहेगा। जो लोग पहले से व्रत कर रहे हैं उनके लिए लाभकारी रहेगा। स्मार्त और वैष्णव दोनों के लिए 30 अगस्त का दिन जन्माष्टमी व्रत के लिए सर्वोत्तम है।

Share this story

Related posts

ब्लॉक प्रमुख भूपेंद्र कुर्मी ने अपने समर्थकों के साथ भाजपा की ज्वाइन 

newsvoxindia

नवरात्र स्पेशल :गोंडा का बाराही देवी मंदिर , जानिए क्यों है माँ के श्रद्धालुओं के लिए खास,

newsvoxindia

एसएसपी बरेली ने क्षेत्राधिकारियों के बदले कार्यस्थल , नए अधिकारियों को भी मिली बड़ी जिम्मेदारी

newsvoxindia

Leave a Comment